कर्नल बैसला अब पटरी से पोलटिक्स मे

87
सोर्स : ani

कर्नल बैसला को अभी तक आप पटरी वाले बाबा के नाम से जानते थे लेकिन आज वो
अपने बेटे विजय बैंसला के साथ भाजपा में शामिल हो गए।

किरोड़ी सिंह बैंसला ने गुर्जर आंदोलन से राजस्थान की पूर्व मुख्यमत्री वंसुधरा राजे ही नहीं अशोक गहलोत की भी नाक में दम कर दिया था। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद बैंसला ने अशोक गहलोत की सरकार के खिलाफ भी गुर्जर आरक्षण की मांगों को लेकर मोर्चा खोल था। कर्नल के बीजेपी मे शामिल होने के बाद सामाजिक ओर राजनीतिक पंडित सक्रिय हो गए हैं खैर जो भी हो इस अवसर पर किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि वह गुर्जर आरक्षण आंदोलन से पिछले 14 साल से जुड़े हुए हैं और इस दौरान उन्होंने दोनों दलों :कांग्रेस, भाजपा: के मुख्यमंत्रियों को नजदीक से अनुभव किया है और दोनों दलों की कार्यशैली, विचारधारा देखी। उन्होंने कहा कि वह भाजपा में इसलिए शामिल हो रहे हैं क्योंकि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित हैं, जो साधारण से साधारण आदमी का सुख-दुख समझते हैं। बैंसला ने कहा कि उन्हें पद का लालच नहीं है और वह चाहते हैं कि न्याय से वंचित लोगों को उनका हक मिले ।

वैसे इस खबर का मतलब ये है की बीजेपी हनुमान बेनीवाल ओर कर्नल किरोड़ी के माध्यम से जाट ओर गुर्जर वोटों को अपनी तरफ खींचने मे कितना कामयाब होगी ये तो वक्त ही बताएगा , लेकिन फिर भी वो अभी काँग्रेस से आगे बढ़ती दिखाई दे रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.